संपूर्ण क्रांति – जयप्रकाश नारायण || Sampurn Kranti Subjective Question Answer

sampurn kranti subjective question answer

दोस्तों इस पोस्ट में हम आप सभी को बताए हैं | बिहार बोर्ड इंटर हिंदी पाठ 3 का Class 12th Sampurn Kranti Subjective Question Answer पीडीएफ भी डाउनलोड कर सकते हैं |Sampurn Kranti Subjective Question इंटर परीक्षा का बेहतर तैयारी के लिए संपूर्ण क्रांति जयप्रकाश नारायण का सब्जेक्टिव क्वेश्चन आंसर जरूर पढ़ें और sampurn kranti subjective question Pdf Download करें |

संपूर्ण क्रांति जयप्रकाश नारायण क्वेश्चन आंसर 

Q. जयप्रकाश नारायण का जन्म कब हुआ था ?

Ans. जयप्रकाश नारायण का जन्म 11 अक्टूबर 1914 को हुआ था ?

 Q. जयप्रकाश नारायण का निधन कब हुआ था ?

Ans. जयप्रकाश नारायण का निधन 8 अक्टूबर 1979 को हुआ

Q . जयप्रकाश नारायण का जन्म स्थान कहां है ?

 Ans. जयप्रकाश नारायण का जन्म स्थान सिताब दियारा गांव

Q. जयप्रकाश नारायण का माता पिता का क्या नाम था

Ans. जयप्रकाश नारायण के माता का नाम फूलरानी एवं पिता का नाम हरसूदयाल 

Q . जयप्रकाश नारायण का पत्नी का नाम क्या था ?

Ans. जयप्रकाश नारायण का पत्नी का नाम प्रभावती देवी था ?

  • जयप्रकाश नारायण जनता में लोक नायक के नाम से प्रसिद्ध थे |

Sampurn Kranti Subjective Question Answer 

 

Q 1. दिनकर जी का निधन कहां और किस परिस्थिति में हुआ था ?

Ans.अपने निधन के दिन दिनकर जी जयप्रकाश नारायण से मिले थे |उसी रात में जेपी के मित्र रामनाथ जी गोयनका इंडिया एक्सप्रेस के मालिक के घर मेहमान थे रात को उन्हें दिल का दौरा पड़ा 3 मिनट में उनको अस्पताल पहुंचाया गया |सारी व्यवस्था थी वहाँ पर सभी डॉक्टर पूरी तरह तैयार थे फिर भी दिनकर जी को बचाया नहीं जा सका उसी रात उनका निधन हो गया |

Q 2. भ्रष्टाचार का जड़ क्या है ? इसे किस प्रकार दूर किया जा सकता है ?

Ans.भ्रष्टाचार की जड़ सरकार की गलत नीतियां है |इन्हीं के कारण भूख महंगाई और भ्रष्टाचार है |कोई काम नहीं निकलता है जनता का बिना रिश्वत दिए हुए |सरकारी दफ्तर में बैंक में हर जगह टिकट लेना है उसमें भी रिश्वत के बिना काम नहीं होता |हर तरह की अन्याय के  बीच जनता दब रही है |शिक्षण संस्थाएं भ्रष्ट हो चुकी है |हमारे नौजवानों का भविष्य अंधेरे में है ,जीवन उनका नष्ट हो रहा है इस प्रकार चारों ओर भ्रष्टाचार फैली है |इसे दूर करने के लिए सरकार ऐसी नीतियां बनाएं जो लोक कल्याणकारी हैं |

Q 3. आंदोलन के नेतृत्व के संबंध में जयप्रकाश नारायण की क्या विचार था ?आंदोलन का नेतृत्व किस शर्त पर वे करते हैं ?

Ans.आंदोलन के नेतृत्व के संबंध में जेपी नारायण कहते हैं कि मैं सबकी लूंगा सब की बात सुनूँगा |छात्र जितना भी ज्यादा होगा, जितना भी  मेरे पास होगा उनसे बहस करूंगा समझूँगा और अधिक से अधिक बात करूंगा आपकी बात स्वीकार करूंगा लेकिन फैसला मेरा होगा| इस फैसले को आप को मानना होगा तभी इसका कोई मतलब है |तभी ये क्रांति सफल हो सकती है |

Sampurn Kranti Subjective 

 

Q 4.बापू और नेहरू की किस विशेषता का उल्लेख जेपी नारायण ने अपने भाषण में किया है ?

Ans.जयप्रकाश नारायण कहते हैं कि जब हम नौजवान थे तब उस जमाने में यह जरूरत होती थी कि हमलोग को बापू के सामने यह कहना पड़ता था कि हम नहीं मानते हैं |बापू आपकी यह बात और बापू में यह महानता थी, कि वह बुरा नहीं मानते थे फिर भी बुला कर हमें प्रेम से समझाना चाहते थे| जेपी कहते हैं कि जवाहरलाल नेहरू मुझे बहुत मानते थे |मैं उनका बहुत आदर और प्रेम करता था |साथी आलोचना भी करता था |और उनमें बड़कपन था कि वे हमारी आलोचनाओं का बुरा नहीं मानते थे |उनके साथ जो मतभेद था वह परराष्ट्र की नीतियों को लेकर था |Sampurn Kranti Subjective 

Q 5. दल -विहीन लोकतंत्र और साम्यवाद में कैसा संबंध है ?

Ans.दलविहीन लोकतंत्र सर्वोदय विचार का मुख्य सिद्धांत है |और ग्राम सभाओं के आधार पर दल-विहीन प्रतिनिधित्व स्थापित हो| दल-विहीन लोकतंत्र तो मार्क्सवाद तथा लेनिन वाद के मूल उद्देश्यों में से हैं |मार्क्सवाद के अनुसार समाज जैसे साम्यवाद की ओर बढ़ता जाएगा वैसे-वैसे राज्य का छय होता जाएगा और अंत में एक स्टेटलेस सोसाइटी कायम होगी |वह समाज अवश्य ही लोकतांत्रिक होगी बल्कि उसी समाज ने लोकतंत्र का नेतृत्व का सच्चा स्वरूप प्रकट होगा और वह लोकतंत्र निश्चय ही दल -विहीन होगा |

Sampurn Kranti Subjective Question Answer

नीचे इमेज पर Click करके पढ़े बातचीत Subjective Question Answer 

Sampurn Kranti Subjective Question  

Leave a Comment

Your email address will not be published.